मनोज कुमार सिँह 'मयंक'

राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

76 Posts

19068 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1151 postid : 425

चंद सवालात

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक पुरुष ने जाने कितने महानरों को निगल लिया|

कभी सत्य पर चला नहीं जो सत्याग्रह का नाम लिया||

अब बसंत के गीत सुनाना पौरुष को मंजूर नहीं|

माँगे सुनी हुई हाय, अब इज्जत है सिन्दूर नहीं||

श्रृंगार आज अस्पृश्य हुआ, नंगापन पूजा जाता है|

सौ सौ मछली खाकर बगुला, बगुला भगत कहाता है||

कोई कहता ओसामा जी और कोई ओबामा जी|

लोकतंत्र के बाजारों में बिकती है सब्जी भाजी||

आतंकी का चारण बनकर राजनीती नतमस्तक है|

कालनेमि के हांथो में भगवद्गीता की पुस्तक है||

रामचरितमानस को जो पानी पी पी गरियाता है|

इंटेलेक्चुअल उम्दा सबसे भारत में कहलाता है||

यहाँ खून सस्ता बिकता, आँखों का कोई मोल नहीं|

उनको ही पूजा जाता है जिनका कोई रोल नहीं||

कुछ अध्यात्मिक शब्दों को जागीर बना कर बैठे हैं|

सत्य, अहिंसा सोने की जंजीर बना कर बैठे हैं||

उलटी सीधी परिभाषा गढ़ने वाला यह खादी है|

प्रश्नचिंह पर प्रश्न उठता हूँ बोलो आजादी है?

क्यों गाँधी का ग्रहण लगा है नेताजी के सपनों में?

सावरकर, आजाद, तिलक और मालवीय से अपनों में||

सूत कातने से शोषण से मुक्ति नहीं मिल सकती है|

भ्रामक प्रचार करने वालों यूँ नहीं दासता मिटती है||

यूँ ही अनुनय करने से, हाँ, कोई अधिकार नहीं देता|

फूल नहीं देता है जो सुन लो तलवार नहीं देता||

सावरकर, नेताजी जैसों ने जब खून बहाया है|

महाकाल के जबड़े से फलरूप आजादी पाया है||

और उसका सौदा करने वालों ने उसको काट दिया|

हाय हमारी भारत माता टुकड़े टुकड़े बाँट दिया||

हर टुकड़े पर अलग अलग टुकड़े की मांग उठाते हैं|

खंडित, खंड खंड करते हम खुद से बटते जाते हैं||

गैर कोई आता भारत का अधिनायक बन जाता है|

जन गण मन अधिनायक कह कर भारत शीश झुकता है||

पोप मरे तो मरे हमारा परचम क्यों झुक जाता है?

एक विदेशी के मरने पर भारत शोक मनाता है||

क्यों अब भी भारत माता भारत में क्रंदन करती हैं?

एक भिखारिन बनी हुई सबका अभिनन्दन करती हैं||

चीन सुरक्षा परिषद में हमको आँखे दिखलाता है|

ताल ठोंक कर पाक हमारी सीमा में घुस आता है||

कुछ आतंकी संप्रभुता को चिंदी चिंदी कर देते|

हम दानवी हितों की खातिर उनकी अगवानी करते||

क्यों प्रत्यर्पण पर एक छोटा देश हमें उलझाता है?

<

| NEXT



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ashvinikumar के द्वारा
July 18, 2011

क्यों प्रत्यर्पण पर एक छोटा देश हमें उलझाता है? ओसामा को राजा जीजा जी कहकर जो बुलाता है ,, बेबी अमूल अमरीका में आतंकी हिन्दू कहता हैं ,, सच है वह फ्रीजियन र कह भी और क्या सकता है,, जिसका रक्त हो गाजी का वह पाजी भारत माँ को क्या जाने,, इस सनातनी जीवन पद्धति को वह कैसे पहचाने ,, जय भारत


topic of the week



latest from jagran