मनोज कुमार सिँह 'मयंक'

राष्ट्र, धर्म, संस्कृति पर कोई समझौता स्वीकार नही है। भारत माँ के विद्रोही को जीने का अधिकार नही है॥

76 Posts

19068 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1151 postid : 46

एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिए

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिए।
तू प्रबल है, तू प्रखर, उद्दाम है तेरी लहर।
जोड़ती है विश्व को तू गाँव से लेकर शहर।
एक अर्न्तजाल से तूने चराचर विश्व जोड़ा।
चल पड़ा युग उस तरफ रुख तूने उसका जिधर मोड़ा।
किँतु तूने भी सदा अन्याय के फेरे लिये।
एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिये।

तूने प्रेरित कर हमेशा नव्य आंदोलन रचा है।
गेँद सा हाँथोँ मेँ तेरे विश्व यह सारा बसा है।
लेखनी से तू सदा इतिहास का निर्माण करती।
विश्व रुपी चित्रपट पर तूलिका से रंग भरती।
दीप सारे ही बुझा कर आज अंधेरे किये।
एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिये।
एक जरा सी बात को तू तूल देती है हमेशा।
राष्ट्र मेँ तू रच रही है नित नया क्यूँ इक बखेड़ा।
जो असंगत हो उसे सेँसर करो छपने न पाये।
फिर बतंगड़ बात का कोई नया बनने न पाये
भारती के भाल पर तू बाल दे अगणित दिये।
एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिये।
कला,संस्कृति,धर्म की,साहित्य की खबरेँ नहीँ हैँ।
लूट,हत्या,अपहरण या खेल,फिल्मोँ से भरी हैँ।
छिः घृणित यह पाप की प्रस्तुति बड़ी ही अटपटी है।
चटपटा है ढंग तेरा बात सारी चटपटी है।
तुझको आजादी मिली अभिव्यक्ति की किसके लिये?
एक कविता लिख रहा हूँ मीडिया तेरे लिए।

| NEXT



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 4.18 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Emma के द्वारा
July 12, 2016

- Fairly neat article, I uncovered a handful of points I di7d2#8&1n;t realize. I just happen across this web site; it is really quite neat. I will should read a few of your other blogposts.

Kashi के द्वारा
April 28, 2010

Mwra naam kashi hai. maine aapki kavita ka sangrah padha. media ke upar jo aapne prakash dala vo kabiletarif hai……………… Kashi Brijenclave, Varanasi 7668114401

rajan के द्वारा
April 23, 2010

बहुत बढिय़ा .,. आगे का इन्तजार रहेगा ! आप को मेरी तरफ से बहुत – बहुत शुभकामनाये…

ns के द्वारा
April 23, 2010

क्या कविता है, मिडिया के संदर्भ में आपकी अगली कविता का इंतजार रहेंगा.

    Eliza के द्वारा
    July 12, 2016

    My understanding is that you cannot capture from a minimized window, even a DirectX one, as the application actually stops generating the images for the window.This is the case with all the capture methods I have attempted to datRreega.ds,J


topic of the week



latest from jagran